fir दर्ज कराने के लिए लिखित में दी जाने वाली प्रार्थना पत्र कैसे लिखे । How to write fir application

www.lawyerguruji.com

नमस्कार दोस्तों,
आज के इस पोस्ट में आप सभी को " F.I.R'  दर्ज कराने के लिए लिखित में दी जाने वाली प्रार्थना पत्र कैसे लिखा जाये इसके बारे में बताने जा रहा हु ।  अक्सर क्या होता है, जब भी कोई घटना घटित होती है तो पीड़ित पक्षकार उस घटना की जानकारी अपने नजदीकी पुलिस स्टेशन में जा कर मौखिक रूप में देता है या तो उस पूरी घटना को लिखित रूप में देता है। और वह जानकारी पुलिस स्टेशन के थाना प्रभारी के द्वारा लिखी जाती है और उसकी एक कॉपी पीड़ित को निःशुल्क  दी जाती है। तो कहा जाता है की पीड़ित द्वारा प्रथम सूचना रिपोर्ट लिखवाई गयी है। 
 F.I.R'  दर्ज कराने के लिए लिखित में दी जाने वाली प्रार्थना पत्र कैसे लिखे ।


प्रथम सूचना रिपोर्ट क्या होती है ?
 क्रिमिनल प्रोसीजर कोड 1973 की धारा 154 में "प्रथम सूचना रिपोर्ट" लिखे जाने का प्रावधान दिया है, देश के हर राज्य के जिले के और गांव में बने थाने के पुलिस इंचार्ज की यह ड्यूटी और कर्तव्य है की यदि कोई भी पीड़ित व्यक्ति या तो उस पीड़ित व्यक्ति का कोई सगा सम्बन्धी या परिवार वाला या उसका कोई मित्र किसी घटना की सूचना पुलिस स्टेशन मे मौखिक या लिखित रूप में देता है, तो उस सूचना के आधार पर पुलिस स्टेशन के पुलिस इंचार्ज  को प्रथम सूचना रिपोर्ट दर्ज करना अति आवश्यक है और लिखित रिपोर्ट को एक बार सूचना देने वाले व्यक्ति के समक्ष पढ़ कर सुनाना होगा और उस रिपोर्ट में उस व्यक्ति के हस्ताक्षर होंगे। 

 F.I.R. लिखवाने के लिए दी जाने वाली एप्लीकेशन कैसे लिखे। 

यदि आपके साथ कोई ऐसी आपराधिक घटना घटती है, और आप उस व्यक्ति के खिलाफ कानूनी कार्यवाही कर उसको न्यायालय से दण्डित करवाना चाहते है या घटना के दौरान हुई क्षति का प्रतिकर लेना चाहते है, तो आपको उस व्यक्ति के खिलाफ सबसे पहले पुलिस स्टेशन में प्रथम  सूचना रिपोर्ट लिखवानी होगी। 

तो, चलिए जानते है कुछ बिंदुओं के बारे में जब प्रथम सूचना रिपोर्ट लिखवाने के लिए दी जाने वाले प्रार्थना पत्र में क्या लिखा जाता है।
  1.  सबसे पहले तो उस  पुलिस स्टेशन का नाम जिसमे आपको घटना की जानकारी देनी है, यह उस पुलिस स्टेशन का नाम जो आपके नजदीकी क्षेत्र का होगा।  
  2. पीड़ित अपना नाम और अपने पिता का नाम और अपने निवास स्थान का पूरा स्पष्ट पता।
  3. यदि कई पीड़ित है तो उनका सबका नाम।  
  4. घटना घटित होने का समय, तारीख और दिन। 
  5. घटना घटित होने वाले स्थान की पूरी जानकारी। 
  6. अपराध या घटना कारित करने वाले व्यक्ति का पूरा नाम, उसके पिता का नाम और निवास स्थान। 
  7. अपराध कारित करने में यदि एक से ज्यादा  थे तो उनका भी पूरा नाम व् पता। 
  8. घटना या अपराध घटित होने का मुख्य कारण क्या था। 
  9. यदि कोई ऐसा व्यक्ति मौजूद था उस घटना के घटने के समय तो उस व्यक्ति का नाम। 
  10. पीड़ित पक्षकार के चोटे कैसे आयी क्या कोई हथियार मर पीट में इस्तेमाल किया गया तो उस हथियार का वर्णन। 

यहाँ तो मैंने आपको उन मुख्य बिंदुओं के बारे में बताया है की प्रथम सूचना रिपोर्ट लिखवाने के लिए दिए जाने वाले प्रार्थना पत्र में क्या क्या लिखा जाना चाहिए। 

एक प्रार्थना पत्र के माध्यम हम आपको और अच्छे तरीके से समझाते है। 

सेवा में,
          श्रीमान थाना प्रभारी निरिक्षक महोदय,
         ( जिस थाने में सूचना देनी उस थाने का नाम व् पता  )

विषय :-   ( सूचना देने का आधार क्या है वह लिखे ) 

द्वारा :  श्रीमान ( सूचना देने वाला अपना नाम यहाँ लिखे)

महोदय ,

             निवेदन है कि प्रार्थी  ................................................................................................................
..............................................................................................................................................................
( ऊपर बताये गए F I R में लिखी जाने वाली बिंदुओ के आधार के अनुसार विवरण दे ).

अतः श्रीमान जी से निवेदन है कि इस सन्दर्भ में एफ.आई.आर दर्ज कर उचित कार्यवाही करने की कृपा की जाये ।
                                                                                                                                         प्रार्थी
                                                                                                                                    नाम :-
                                                                                                                                    पता :

दिनांक
(                       )

नोट :- आई डी कार्ड की फोटो कॉपी संलग्न करे। 
fir दर्ज कराने के लिए लिखित में दी जाने वाली प्रार्थना पत्र कैसे लिखे । How to write fir application fir दर्ज कराने के लिए लिखित में दी जाने वाली प्रार्थना पत्र कैसे लिखे । How to write fir application Reviewed by Advocate Pushpesh Bajpayee on October 10, 2018 Rating: 5

47 comments:

  1. Is fraud ke liye aap bihar police examination board ko bataye.

    ReplyDelete
  2. Very useful and narrative information

    ReplyDelete
  3. Sir, agar koi महिला रोज गली दे , तने मारे किसी के थ्रू धमकी दे मरवाने की तो क्या करे

    ReplyDelete
    Replies
    1. इस मामले से सम्बंधित शिकायत थाने में दर्ज करा दें।

      Delete
  4. 18/08/2019 ko Maine grofer customer care no pr call kiya.which no display on Google.. d with in 2 min.i feel ke kuch glt h..d Maine apne 90% amount husband ke acc me transfer kr diya..baki 10% ph cut hote hi nikl gya..vo fruad chor log the.
    .8617537630,9641728041...ye vo no h..jo zomato swiggy grofer Custmer care wale ban k bat krte hai...plz be careful..

    ReplyDelete
    Replies
    1. Thanks for sharing information like this.
      Register online FIR against these fraudulent mobile numbers.

      Delete
  5. अगर हमारे साथ मारपीट का fir थाना नही लिखता है और बाद में थोड़ा ख़रोंच के कारण हमपर धारा 307 लगा दिया जाता है तो किसके पास और किस तरह का एप्लीकेशन लिखें
    प्लीज टेल मी सर

    ReplyDelete
  6. Online दर्ज करा लीजिए ।

    ReplyDelete
  7. sir koi phone kr gandi gandi gali de to keya kre

    ReplyDelete
    Replies
    1. पुलिस को शिकायत करो या ऑनलाइन एफ़॰आई॰आर॰ दर्ज करा दो।
      अब दुबारा फ़ोन कर गाली दे तो उसकी recording कर लो ।

      Delete
  8. police me fir kar di police koi action nhi le rhi sp ko letter kese likhe plss bataye

    ReplyDelete
  9. sir phone chori ho jane p use trace krwane k liye police se kese requst kere taaki phone jaldi mil jaye ...

    ReplyDelete
    Replies
    1. आप ऑनलाइन मोबाइल चोरी होने की एक रिपोर्ट करा दे। रिपोर्ट मे मोबाइल चोरी होने का और मोबाइल का मॉडल, आईएमईआई नंबर का जिक्र जरूर करे ।

      Delete
  10. Sir mai ek ladke k sath 8 sal se relation me thi usne mere sath dhoka kiya shadi ke liye inkar kr rha h unke ghar wale nhi man rhe to ky online fir kr skte h

    ReplyDelete
    Replies
    1. हाँ आप इस घटना की रिपोर्ट ऑनलाइन करा सकती है ।

      Delete
  11. सर मैं पाँच भाई हूँ, मेरे भाइयों में पैतृक संपत्ति को लेकर विवाद है, मेरे भाइयों सब मुझे उसमें हिस्सा नहीं दे रहा है और दबंगता दिखाता है इसकेलिए मैं कानूनी रूप से मदद चाहता हूँ क्या करें सर, जरूर बताएं

    ReplyDelete
    Replies
    1. आप अपने हिस्से के लिए सिविल न्यायालय मे एक मुकदमा दायर कर दो ।

      Delete
  12. Sir mujhe keral ki Patrick sampatti ke batware ka prosizer malum nahi hi kynki main Raipur me nivasrath hn mere dada ji gujr chuke hi unhone koi vasihat bhi nahi ki hue hi

    ReplyDelete
  13. अधिक जानकारी के लिए आपको केरला जाना होगा और वहाँ के किसी अधिवक्ता से संपत्ति के बटवारे के बारे मे जानना होगा ।

    ReplyDelete
  14. महोदय मेरे व मेरे परिवार के खिलाफ कुछ गांव के ही अराजक तत्व आये दिन कोर्ट से छेड़छाड़ व वलात्कार जैसी संगीन आरोप लगाते रहते हैं मेरी जमीन पर कब्जा कर लिया है आये दिन गाली गलौज व मारपीट की फिराक में रहते हैं हम लोगों का जीना हराम कर दिया है
    कोई उचित उपाय बताए

    ReplyDelete
  15. Sir mera bhai 24 ghande se ghar nahi aaya hai mai uska number track nahi kar pa raha hun, mai kya karun, uska phone bhi switch off aa raha hai

    ReplyDelete
    Replies
    1. इस मामले की सूचना पुलिस को दें।

      Delete
  16. PLOT KI GALAT REGISTRY KI FIR NAHI KAR RAHI POLICE BAR BAR CIVIL MAMLA BATA RAHI HAI DUSRA PERSON PHLE HI POLICE SE MIL GAYA kya kare

    ReplyDelete
  17. sir please help 2 year se presan hai

    ReplyDelete
  18. आपने रेजेस्ट्री की या करवाई हैं इसका जवाब दे

    ReplyDelete
  19. जिसकी जमींन थी उसने उस पर कॉलोनी काट कर 1987 में रजिस्ट्री करवा कर बेचान किया था सीमा का प्लाट है\ मैंने इस रजिस्टर्ड प्लाट को ख़रीदा था 1996 में नोटरी स्टाम्प पर\ प्लाट पर पत्थर डलवाकर कब्ज़ा तो काबिज़ है जब से ही \ लेकिन इसी के पास रहने वाला इसकी जानकारी रखता था की इसके आगे जमीं बचती है और उसने पड़ोस की जमी वाले से मेरे भी प्लाट की रजिस्ट्री करवा ली पूरे की 1994 में \ इसको और इसके साथियों सभी को मेरे प्लाट का पहले से पता था फिर भी इसकी रजिस्ट्री करवाई जो अब पता चली इन्होने उसको भी नहीं बताया \क्योकि रजिस्ट्री बनाने वाले से इनकी मिलीभगत थी \ अब पुलिस कह रही है मेरे प्लाट के बाद बची जमी और ७ फिट फूटपाथ १५ फिट वो लेगा मामला सिविल का है FIR नहीं कर सकते \

    ReplyDelete
    Replies
    1. ज़मीन कहाँ पर हैं ?
      आप इसके लिए दीवानी न्यायालय में मुक़दमा दर्ज करें।

      Delete
  20. सर मैं एक पेटी ठेकेदार हू लेबर का कुछ बकाया रह जाता है मैंने एक लेबर को बैंक चेक बिना तारीक का दिया और उससे कहा कि पैसा आएगा तो बता दूँगा तुम लगा के निकाल लेना वो चेक लगाया नहीं और गाली देने लगा मैंने उससे कहा कि हमको कुछ समय चहिये उसने कहा कि कितना 15 दिन और बीच में होगा तो कर देंगे वो थाने में चला गया हमको क्या करना चाहिए

    ReplyDelete
    Replies
    1. उसका बक़ाया भुगतान कर दो और शिकायत वापस लेने को कहो ।

      Delete
  21. सर मेरे घर के मोबाइल पर एक फर्जी कॉल आता है और गलत बोलता रहता है और उसका नंबर मेरे घर के मोबाइल पर दिखाई नहीं देता है अब तो कम से कम दिन में पांच सात बार आता है मैं उस सिम को बंद भी नहीं कर सकता

    ReplyDelete
    Replies
    1. सर मैंने fir भी करवा दी उसके बावजूद भी फर्जी कॉल बार-बार आ रहा है क्या करूं सर (मेरे मोबाइल पर उसका कॉल आया जब यह नंबर दिखाता है Unknown number)

      Delete
    2. पुलिस की तरफ़ से कोई जानकारी प्राप्त हुई ?
      आप अपनी टेलिकॉम कम्पनी को इस अनजान नम्बर से आने वाली कॉल के बारे में शिकायत करें।

      Delete
    3. सर पुलिस की तरफ से कोई अभी तक कॉल नहीं आया मेरी सिम बीएसएनल की है और मैं बीएसएनल कंपनी को कई बार कॉल कर चुका हूं उनकी तरफ से भी कोई संतुष्ट जवाब नहीं मिला

      Delete
    4. यदि आप उत्तर प्रदेश के निवासी है तो यू॰पी॰ सी॰एम॰ हेल्प लाइन नम्बर 1076 पर सम्पर्क कर अपनी शिकायत दर्ज करा दें।

      Delete
    5. सर मैं राजस्थान सीकर से हूं
      Help me

      Delete
    6. अपने क्षेत्र के एस॰पी॰ को एक शिकायत पत्र लिखों जिसमें घटना की पूरी जानकारी हो यह भी लिखो की थाने में शिकायत दर्ज होने पर भी कोई समाधान नहि हुआ ।

      Delete
  22. Muje noise pollution ke and abusive language use krne ke liye fir likhvani h.

    ReplyDelete
  23. Sir mere bike ki RC kho gya hai kaise likhe isi formate m likhe

    ReplyDelete
  24. सर मैंने अगले महीने (अक्टूबर) में एक कम्पनी में काम किया था। और अब मैं वहां से काम छोड़ दिया हूं, सेठ से अपना पगार मांगता हूं तो वो बोलता है 10 तारीख को आओ,20 तारीख को आओ , तारीख दे कर उस दिन कम्पनी में आता ही नहीं है।कल मैंने गुस्से में आकर कहा कि आज मुझे मेरा पगार नहीं दोगे तो मैं पुलिस से शिकायत करूंगा।अब वो बोल रहा है कि अब पैसा नहीं मिलेगा जा जहां जाना है मेरे से पैसा मत मांगना।
    सर बताइए कि अब मैं क्या करूं कि वो मेरा पैसा दे दे।

    ReplyDelete
  25. अपने शहर के किसी अधिवक्ता से मिलकर श्रम न्यायालय में शिकायत दर्ज करो ।

    ReplyDelete
  26. Sir ek ourat mujhe dhamki deti hai ki mai mahila thane me tumhari report kar dugi is se bacne ke liye mai kya karu

    ReplyDelete
  27. Vo jhuta phasana chati hai kuki jmien ka kuch

    vivaad hai salah dejiye

    ReplyDelete
  28. सर् मेरा नाम दिनेश है मैं सोनपुर जंहागिरपुर पंचायत से हूँ, मेरा आवेदन यह है कि मैं छोटी जाती से बिरोम करता हूँ ,मेरे घर के पास थोड़ा जमीन है जिस में कुछ लोग आवेध तरीके से उस मे अपना कर्ज करते है बोलने पे झगला और धमकी भी देते है, हम लोग कम उम्र और फ़िजकरी से कमजोर है अतः आप से निवेदन है कि आप सभी मेरे समस्या का समाधान बताये,������������

    ReplyDelete
  29. घर के पास की ज़मीन आपकी है तो क़ब्ज़ा करने वालों के ख़िलाफ़ थाने में रिपोर्ट लिखवाओ ।

    या दीवानी न्यायालय में मुक़दमा दायर करो ।

    ReplyDelete

lawyer guruji ब्लॉग में आने के लिए और यहाँ पर दिए गए लेख को पढ़ने के लिए आपको बहुत बहुत धन्यवाद, यदि आपके मन किसी भी प्रकार उचित सवाल है जिसका आप जवाब जानना चाह रहे है, तो यह आप कमेंट बॉक्स में लिख कर पूछ सकते है।

नोट:- लिंक, यूआरएल और आदि साझा करने के लिए ही टिप्पणी न करें।

Powered by Blogger.