कानूनी जानकारी वीडियो देखे

lawyerguruji

भारतीय दंड संहिता की कुछ महत्वपूर्ण धाराएं Some important section of Indian Penal Code

www.lawyerguruji.com

नमस्कार दोस्तों,
आज के इस पोस्ट में आप सभी को " भारतीय दंड संहिता " की कुछ धाराओं के बारे में बताने जा रहा हु जिनके बारे में आप सभी को मालूम होना चाहिए।
भारतीय दंड संहिता की कुछ महत्वपूर्ण धाराएं।  Some important section of Indian Penal Code.


1. धारा 302 :-  भारतीय दंड संहिता की धरा 302 में हत्या के लिए दंड का प्रावधान किया गया है, जहां  कोई भी व्यक्ति यदि हत्या का अपराध करता है, तो वह दंडनीय होगा जो की मृत्यु या आजीवन कारावास की सजा से दण्डित किया जायेगा और जुर्माने से भी दण्डित किया जायेगा।  

2. धारा 304 B :-  दहेज़ मृत्यु - भारतीय दंड संहिता की धारा 304 B दहेज मृत्यु क्या है उसके बारे में बताती है , जहा पर किसी भी विवाहित स्त्री की मृत्यु आग लगा के जला डालने  से या शारीरिक क्षति उसको इतनी बुरी तरह से मारा पिता जाता है जिसके कारण से उसकी मृत्यु हो जाती है या उस स्त्री के विवाह के सात वर्ष के भीतर उसकी मृत्यु हो जाती है तो यह दर्शित किया जाता है की उसकी स्त्री की मृत्यु के पहले उसके पति ने या उसके पति के किसी रिस्तेदार ने दहेज़ की मांग के लिए या उसके सम्बन्ध में उसके साथ क्रूरता की थी या उसे तंग किया , मारा पिता गया या मरने की धमकी दी गई, वहां ऐसी मृत्यु को दहेज़ मृत्यु कहा जायेगा।  इस मृत्यु के जिम्मेदार उस स्त्री के पति, सास-ससुर या नाते रिस्तेदार समझे जायेंगे। दहेज़ मृत्यु के दोषी को सात साल के कारावास से या आजीवन कारावास से दण्डित किया जायेगा।  


3. धारा 376 :- बलात्कार के लिए दंड - भारतीय दंड संहिता की धारा 376 बलात्कार के दोषियों के लिए दंड का प्रावधान करती है।  जो कोई किसी भी स्त्री के साथ उसकी मर्जी के बिना,डरा धमका कर या, उसकी सम्मति के बिना, उसकी इच्छा के विरुद्ध उसके साथ शारीरिक सम्बन्ध बनाता है वह बलात्कार कहा जायेगा जो की अपराध की श्रेणी में आता है और ऐसे अपराध के लिए सजा दस साल के कारावास की सजा से काम नहीं होगी जो की आजीवन कारावास की सजा तक भी हो सकती है और जुर्माने से भी दंडनीय होगा।  

4. धारा 379 :- चोरी  के लिए दंड - भारतीय दंड संहिता की धारा 379 में चोरी के लिए दंड का प्रावधान किया गया है। यदि कोई भी व्यक्ति किसी व्यक्ति के कब्जे में से उस व्यक्ति की संपत्ति को उसकी मर्जी के बिना लेता है तो वह चोरी कही जाएगी जो की दंडनीय है।  चोरी करते पकडे पाए जाने पर दोषी व्यक्ति को तीन साल तक की कारावास की सजा सकती है या जुर्माने से दंडनीय होगा या दोनों से दंडनीय होगा।  





1 टिप्पणी:

lawyer guruji ब्लॉग में आने के लिए और यहाँ पर दिए गए लेख को पढ़ने के लिए आपको बहुत बहुत धन्यवाद, यदि आपके मन किसी भी प्रकार उचित सवाल है जिसका आप जवाब जानना चाह रहे है, तो यह आप कमेंट बॉक्स में लिख कर पूछ सकते है।

नोट:- लिंक, यूआरएल और आदि साझा करने के लिए ही टिप्पणी न करें।

Blogger द्वारा संचालित.