lawyerguruji

जाने जनरल पावर ऑफ़ अटॉर्नी यानी मुख्तारनामा आम कैसे लिखा जाता है ?

www.lawyerguruji.com

नमस्कार मित्रों,
आज के इस लेख में आप सभी को बताने जा रहा हु कि "पावर ऑफ़ अटॉर्नी यानी मुख्तारनामा आम " लिखा कैसे जाता है ? 

यह लेख खासकर उन नए अधिवक्ताओं के लिए है जो कि हाल ही में पंजीकृत हुए है। ऐसे में उनको कोई रह दिखाने वाला मिल जाये तो वह बहुत कुछ सीख व् समझ सकते है। इस लेख में आज हम " पावर ऑफ़ अटॉर्नी यानी मुख्तारनामा आम" कैसे लिखा जायेगा उसके बारे में विस्तार से जानेंगे। यहां में आपको एक पावर ऑफ़ अटॉर्नी की ड्राफ्टिंग कैसे की जाती है उसको बताने जा रहा हु, जिसमे आपको केवल निम्न विवरणों को बदलना होगा और बाकि सारा मेटर वही रहेगा। 

how to write power of attorney mukhtarnama aam in Hindi


यह जानने से पहले यह जाने :-

पावर ऑफ़ अटॉर्नी यानी मुख्तारनामा लिखा किसमे जाता है ? 
पावर ऑफ़ अटॉर्नी यानी मुखतरनामा 50 रु या 100 रु के भारतीय गैर न्यायिक स्टाम्प पेपर पर लिखा जाता है।

जनरल पावर ऑफ़ अटॉर्नी यानी मुख्तारनामा आम कैसे लिखे - एक प्रारूप 

how to write power of attorney mukhtarnama aam in Hindi


(मुख्तारनामा आम द्वारा अधिकार देने वाले की फोटो व् हस्ताक्षर )
                                        

मुख्तारनामा आम  खण्डनीय 
स्टाम्प 50 /- रु  
मैं (यहाँ उस व्यक्ति का नाम लिखा जायेगा जो पावर ऑफ़ अटॉर्नी द्वारा अधिकार दे रहा है ) पुत्र (पिता का नाम, व्यव्साय, निवास स्थान ) आधार न० -  ____________________ ,  मो०  न ० - ____________ का निवासी हु। जो कि मुझे वाद प्रतिवाद के सम्बन्ध तथा संपत्ति के प्रबंध के सम्बन्ध में न्यायालय व् अन्य राजकीय विभागों में उपस्थित होने की आवश्यकता होती है। 

और मैं (यहाँ पर पावर ऑफ़ अटॉर्नी बनाने वाले व्यक्ति का वर्तमान व्यवसाय का पता ) कार्यरत होने के कारण अधिकतर बाहर रहता हु इसलिए उनमे उपस्थित होने में असमर्थ हु। अतः स्वस्थ बुद्धि व् स्वास्थ्य की दशा में बिना किसी अनुचित दबाव के प्रसन्नतापूर्वक मैं अपने (यहाँ पर आप उस व्यक्ति का नाम, पिता का नाम, निवास स्थान लिखेंगे जिसके नाम पावर ऑफ़ अटॉर्नी बनानी है) को अपना मुख्तारआम व् स्थानापन्न नियुक्त करके निम्नलिखित अधिकार देता हूँ। यह की समस्त न्यायालयों दिवानी, कलेक्ट्री, कमिशनरी, बोर्ड ऑफ़ रेवन्यू, माल, फौजदारी, बंदोबस्त(चकबंदी), उच्च न्यायालय व् सर्वोच्च न्यायालय, पंचायत विभाग, नहर, कृषि, टाउन एरिया,नगर पालिका, जिला परिषद,

आबकारी,डाक खाना, तार, रेलवे, पुलिस,  इंजीनियरिंग, कोष बैंक, इलेक्शन, समस्त रजिस्टर्ड कम्पनी और अन्य विभाग जो शासनकी की ओर से तथा अन्य  बद्ध रीती स्थित हो अथवा भविष्य में स्थित होवे अपने देश अथवा विदेश में मेरी ओर से उपस्थित होकर समस्त अधिकारों को प्रयोग में लावे और आवश्यक कार्यवाही करे। यह कि वाद पत्र, प्रतिवाद पत्र , प्रत्येक प्रकार के प्रार्थना पत्र संधि पत्र, शपथ पत्र, उत्तरप्रति, प्रतिउत्तर पत्र निस्पादक प्रत्येक न्यायालय व् विभाग में मेरी ओर से अपने हस्ताक्षर से व् पुष्टि से प्रस्तुत करे और अपने हस्ताक्षर से मेरी ओर से पुष्टिकरण करे।  तथा प्रत्येक प्रकार की आवश्यक कार्यवाही करे मेरी संपत्ति का बैनामा, हिबानामा, इकरारनामा, 

रेहनामा, आदि अपने हस्ताक्षर करके रजिस्ट्री करावे तथा किसी बैंक से मेरे नाम से फाइनेंस कराकर अपने नाम से संपत्ति क्रय करे। यह कि बैरिस्टर एडवोकेट, वकील, मुख्तारखास को नियुक्त अथवा पृथक करे।  उक्त समस्त कार्यवाही मुख्तारनामा आम द्वारा की हुई मेरी की हुई समझी जाएगी और मुझे स्वीकार होगी मुख्तारनामा आम को निरस्त करने का मुझे पूर्ण अधिकार है मैंने कोई प्रतिफल नहीं प्राप्त किया है अतः यह मुख्तारनामा आम खण्डनीय लिख दिया प्रमाण रहे और समय पर काम आवे।  उपरोक्त खण्डनीयमुख्तारनामा आम में फ़ोटो प्रमाणित साक्षी न० 1 ने किया है।   

                        (मुख्तारनामा आम द्वारा अधिकार देने वाले व्यक्ति का नाम व् अंगूठे का निशान )

दिनांक -    

टंकरणकर्ता
( नाम )


साक्षी नं ० - 1 
नाम-
पिता का नाम -
निवासी-
आधार नं ० - 
मो नं ० -
पेशा -

साक्षी नं ० - 2 
नाम-
पिता का नाम -
निवासी-
आधार नं० -
मो० नं ० -
पेशा -


नोट :- इस प्रकार से लिखने पर स्टाम्प पेपर को मिलाकर कुल 5 पेपर की आवश्यकता पड़ती है। पावर ऑफ़ अटॉर्नी यानी मुख्तारनामा बनने में रजिस्ट्री कार्यालय द्वारा भी कुछ विवरण लिखे जाते है। यह विवरण हर एक पेज में अलग होता है जैसे कि :- 

पेज नं ० 1 -  स्टाम्प पेपर के पीछे स्टाम्प वेंडर अपना लाइसेंस नं, दिनांक, व् विक्रेता का विवरण लिखता है। (यह विवरण स्टाम्प वेंडर द्वारा लिखा जाता है।)

रजिस्ट्री कार्यालय द्वारा :-
पेज नं ० 2 - जहाँ मुख्तारनामा से सम्बंधित विवरण लिखा होता है उसके पीछे रजिस्ट्री कार्यालय द्वारा मुख्तारनामा के पंजीकरण के लिए किये गए आवेदन की संख्या। 
  1. बही संख्या,
  2. रजिस्ट्रेशन संख्या,
  3. वर्ष,
  4. स्टाम्प शुल्क, पंजीकरण शुल्क - कुल योग,
  5. आवेदक का नाम, फोटो, हस्ताक्षर।
  6. पिता का नाम,
  7. निवास स्थान,
  8. पेशा,
  9. कार्यालय में लेखपत्र के प्रस्तुत होने का दिन व् समय। 
  10. निबंधक के हस्ताक्षर उसके नाम के साथ। 
पेज नं० 3 - जहाँ मुख्तारनामा से सम्बंधित विवरण लिखा होता है, उसके पीछे रजिस्ट्री कार्यालय द्वारा निम्न विवरण लिखा जाता है :-
  1. मुख्तारकर्ता 1 का नाम व् पता पेशा, फ़ोटो व् हस्ताक्षर के साथ। 
  2. पहचानकर्ता 1 व् 2 का नाम व् पता पेशा, फ़ोटो व् हस्ताक्षर के साथ। 
  3. रजिस्ट्रीकरण अधिकारी के हस्ताक्षर।  
नोट :- पावर ऑफ़ अटॉर्नी यानी मुख्तारनामा आम द्वारा अधिकार देने वाले व्यक्ति का हर एक पन्ने पर हस्ताक्षर होगा।  
जाने जनरल पावर ऑफ़ अटॉर्नी यानी मुख्तारनामा आम कैसे लिखा जाता है ?   जाने जनरल पावर ऑफ़ अटॉर्नी यानी मुख्तारनामा आम कैसे लिखा जाता है ? Reviewed by Advocate Pushpesh Bajpayee on सितंबर 01, 2020 Rating: 5

कोई टिप्पणी नहीं:

lawyer guruji ब्लॉग में आने के लिए और यहाँ पर दिए गए लेख को पढ़ने के लिए आपको बहुत बहुत धन्यवाद, यदि आपके मन किसी भी प्रकार उचित सवाल है जिसका आप जवाब जानना चाह रहे है, तो यह आप कमेंट बॉक्स में लिख कर पूछ सकते है।

नोट:- लिंक, यूआरएल और आदि साझा करने के लिए ही टिप्पणी न करें।

Blogger द्वारा संचालित.