Subscribe my channel.

lawyerguruji

न्यायालय की अवमानना सिविल अवमानना और आपराधिक अवमानना क्या है

www.lawyerguruji.com

 नमस्कार दोस्तो,
आज के इस पोस्ट में आप सभी को न्यायालय की अवमानना के बारे  बताने जा रहा हु।  न्यायालय का अवमान अधिनियम 1971, की धारा  2 (क) में न्यायालय की अवमान को दो भागो में बाटा गया है, जो की पहला सिविल अवमानना और दूसरा आपराधिक अवमानना है।
न्यायालय की अवमानना :- सिविल अवमानना और आपराधिक अवमानना।
  1. न्यायाधीश का निरादर करना,
  2. न्यायाधीश के चेतावनी देने के बाद भी उपद्रव करना,
  3. न्यायालय के दिए गए आदेश का जानभूझकर कर पालन न करना, 
  4. न्यायाधीश से अभद्र तरीके से बात करना,
  5. न्यायाधीश के समक्ष से बात करना,
  6.  न्यायाधीश को जूता दिखाना अन्य,
  7. न्यायालय को कलंकित करना,
  8. न्यायालय की प्रक्रिया को क्षति पहुँचाना,
  9. न्यायालय की कार्यवाही में हस्तक्षेप करना,
  10. न्यायालय में हंगामा करना आदि। 
अधिनियम की धारा 2 (ख)   सिविल अवमानना :-  न्यायालय के किसी निर्णय, डिक्री, आदेश, रिट, अथवा अन्य किसी प्रक्रिया की जानभूझकर की गयी अवज्ञा या उसका उल्लंघन करना न्यायालय की अवमानना कहा जायेगा। 

अधिनियम की धारा 2 (ग) आपराधिक अवमानना :- न्यायालय की किसी बात के  प्रकाशन से है, वह चाहे लिखित हो या मौखिक हो या चिन्हित हो या चित्रित हो या किसी अन्य तरीके से हो, जो की न्यायालय की अवमानना करता है।  
न्यायालय की अवमानना के लिए दण्ड का प्रावधान।  
न्यायालय अवमान अधिनियम की धारा  12 में न्यायालय के अवमानना के लिए दण्ड का प्रावधान करती है।  इस अधिनियम की उपधारा (1) के अनुसार जो कोई न्यायालय की अवमानना करता है या करेगा उसे सादे कारावास से दण्डित किया जायेगा जो की छह महीने की कारावास की सजा हो सकती है, या जुर्माने से दण्डित किया जा सकता है जो की दो हजार रुपया या इन दोनों सजा से दण्डित किया जा सकता है।  
न्यायालय की अवमानना सिविल अवमानना और आपराधिक अवमानना क्या है न्यायालय की अवमानना सिविल अवमानना और आपराधिक अवमानना क्या है  Reviewed by Advocate Pushpesh Bajpayee on जुलाई 09, 2018 Rating: 5

5 टिप्‍पणियां:

  1. सर मैंने सर्विस रिकॉर्ड में जन्मतिथि सुधार के लिए हाईकोर्ट में याचिका लगाई थी जिसका आदेश कोर्ट से सुधार के लिए आया था और हमने वह आदेश विभाग में जमा कर दिया था जिसमें कोर्ट ने तीन महीने के अंदर सुधार करने को कहा था आज तीन महीने से ज्यादा समय हो चुका है लेकिन अभी तक कोई सुधार नही हुआ सुधार करने के लिए पैसे की मांग करते है क्या हम विभाग पर कंटेप्ट लगा सकते है और कंटेप्ट लगाने का खर्चा कितना आयेगा प्लीज सर सलाह दे

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. अपने वकील को तुरंत देरी किये, न्यायालय में प्रार्थना पत्र देने कहिये, आपका काम तत्काल होगा, और मामले में अवमानना की कार्यवाही भी त्वरित होगी.
      कोर्ट में अर्जी का फीस आपके वकील बतायेंगे.

      हटाएं
  2. एक व्यक्ति द्वारा संभागायुक्त न्यायालय में चल रहे प्रकरण में संभागायुक्त द्वारा दिए गए स्थगन को अवैध रूप से दिया गया लिखकर अधीनस्थ sdm न्यायालय में दूसरे पक्ष के लिए सिकायत की गई है एसडीएम एवं कलेक्टर द्वारा स्थल जांच संबंधी निर्देश भी दे दिया गया है। क्या ये अवमानना प्रकरण के योग्य है, किसके विरूद्ध होगा कोई पूर्व निर्णय यदि इस संबंध में हो तो जानकारी दे

    जवाब देंहटाएं
  3. Sir court se sty laga huaa hai or usake baadh v dusara pati court ka odar ko nahi maan raha hai mai Kya karu policy ke pass jata hu to bolta hai ki court ka mamala hai court ko Jake bolo sab poolic dipat Mila huaa hai sir mai Kya karu ap please sir my help you sir

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. अपने वकील से बोलो वो न्यायालय मे इसके संबंध मे लिखित प्रार्थना पत्र दे ।

      हटाएं

lawyer guruji ब्लॉग में आने के लिए और यहाँ पर दिए गए लेख को पढ़ने के लिए आपको बहुत बहुत धन्यवाद, यदि आपके मन किसी भी प्रकार उचित सवाल है जिसका आप जवाब जानना चाह रहे है, तो यह आप कमेंट बॉक्स में लिख कर पूछ सकते है।

नोट:- लिंक, यूआरएल और आदि साझा करने के लिए ही टिप्पणी न करें।

Blogger द्वारा संचालित.