श्रम न्यायालय क्या है और श्रम न्यायालय में केस कैसे करे ? What is labour court and How to file a case in Labour court

www.lawyerguruji.com

नमस्कार दोसतो,
आज के इस लेख में आप सभी को " श्रम न्यायालय "के बारे में बताने जा रहा हु कि श्रम न्यायालय क्या है और श्रम न्यायालय में केस कैसे करे ?
आप सभी कर्मचारियों को अपने अधिकार के बारे में मालूम होना चाहिए  कि यदि आपके साथ किसी भी प्रकार का शोषण होता है,  तो ऐसे में उस शोषण के खिलाफ श्रम न्यायालय में केस कर न्याय पा सकते है। न्याय पाने के लिए श्रम न्यायलय के  बारे में भी जानकारी होनी चाहिए। सबसे पहले हम ये जान ले कि श्रमिकों पर होने वाले शोषण के बारे में।
श्रमिकों के पर होने वाले शोषण ?
  1. बिना कारण कर्मचारी को नौकरी से निकाल देना। 
  2. समय पर कर्मचारी को उसका वेतन  देने से इंकार करना। 
  3. कर्मचारियों को उनके श्रम का उचित मूल्य न देना। 
  4. कर्मचारियों के हितो पर विचार न करना या उस पर ध्यान ही न देना। 
  5. एक निर्धारित समय से अधिक कर्मचारियों से कार्य करवाना। 
  6. ऐसी ही कई प्रकार से कर्मचारियों का शोषण होता है। 
भारतीय संविधान के अनुछेद 23 में शोषण के विरुद्ध अधिकार के बारे में बताया गया है।
श्रम न्यायालय क्या है और श्रम न्यायालय में केस कैसे करे ? What is labour court and How to file a case in Labour court ?


क्या है श्रम न्यायालय ?
अधिकांश व्यक्ति कर्मचारी के रूप में किसी न किसी सरकारी या निजी कंपनी,फर्म या फैक्ट्री में कार्य कर रहे है ताकि अपना और अपने परिवार का भली भांति पालन पोषण कर सके, लेकिन समस्या तब आती है जब उनके नियोक्ता उनका शोषण करते है। शोषण  मतलब की बिना किसी कारण के नौकरी से निकल देना, निर्धारित समय से अधिक समय तक काम लेना और मजदूरी भी कम देना, समय पर वेतन का भुगतान न करना, उनके हितो पर ध्यान न देना और अन्य प्रकार से कर्मचारियों का शोषण होता रहता है।
अब ऐसे में ये कर्मचारी करे तो क्या करे इन्ही सब समस्या को ध्यान में रखते हुए श्रम न्यायालय ( Labour court ) को देश के हर राज्य में स्थापित किया गया ताकि अगर किसी भी प्रकार से कर्मचारियों का उनके नियोक्ता के द्वारा शोषण किया जाता है , तो पीड़ित कर्मचारी यहाँ आकर हुए अन्याय के खिलाफ न्याय की गुहार लगा कर न्याय पा सकता है। श्रम न्यायालय में केस करने के लिए आपको अपने शहर के वकील (advocate, lawyer) से मिलकर अपनी समस्या बतानी होगी ताकि केस करने में किसी भी प्रकार की कोई समस्या न हो।

श्रम न्यायालय में केस करने से पहले ध्यान में रखने वाली बातें। 
अगर आपके साथ भी आपके नियोक्ता द्वारा आपका शोषण किया जाता है जैसे की मैंने ऊपर बताया है, तो ऐसे में आप उसके खिलाफ श्रम न्यायालय में केस दर्ज कर न्याय पा सकते है। लेकिन उससे पहले आपको कुछ बातों पर ध्यान देना होगा ताकि आपको किसी की कोई समस्या न हो सके।
  1. कंपनी, फर्म या फैक्ट्री में काम करने का साक्ष्य जो कि नियोक्ता से मिलने वाला नियुक्ति पत्र आपके पास होना चाहिए। 
  2. अपने जहाँ नियुक्त है वहाँ कितने समय तक काम किया।
  3. नियुक्त होते समय आपका और कंपनी के क्या एग्रीमेंट हुआ था। 
  4. नियुक्ति के समय आपको मिलने वाला वेतन कितना तय हुआ था। 
  5. ऐसे दो व्यक्तियों का होना जो श्रम न्यायालय में जरुरत पड़ने पर आपके पक्ष में गवाही दे सके। 
श्रम न्यायालय में जाने से पहले उठाये जाने वाला कदम क्या है ?
श्रम न्यायालय जाने से पहले आपको अपनी समस्या का समाधान पाने के लिए कंपनी, फर्म या फैक्ट्री जहाँ आप कर्मचारी के रूप में कार्य कर रहे है ऐसी समस्या की शिकायत लिखित में वहां के उच्च अधिकारी या मालिक से करे हो सकता है कि  वे ही आपकी समस्या का समाधान कर दे।

कंपनी के उच्च अधिकारी और मालिक भी आपकी शिकायत नहीं सुनता या उसके निर्णय से समाधान न हो तो क्या करे ?
कई बार क्या होता है कि पीड़ित कर्मचारी अपने साथ होने वाले शोषण की शिकायत कंपनी के उच्च अधिकारी या मालिक से तो करता है लेकिन उसकी समस्या का समाधान नहीं तो या उसकी शिकायत सुनी नहीं जाती हो ऐसे में पीड़ित कर्मचारी इसकी शिकायत पुलिस में लिखित शिकायत के रूप में दे सकता है।

यदि पुलिस भी शिकायत लेने से मना कर दे तब क्या करे ?
कई बार ऐसा भी होता है पीड़ित कर्मचारी अपने साथ होने वाले शोषण की शिकायत पुलिस थाने में दर्ज कराने जाता है ,तो वहाँ के थाना निरीक्षिक प्रभारी के द्वारा शिकायत दर्ज करने से मना कर दिया जाता है, तो ऐसे में पीड़ित कर्मचारी शिकायत दर्ज करने के लिए  S.P. को लिखित में शिकायत दे सकता है।

अगर S.P . भी शिकायत दर्ज करने से मना कर दे तब क्या करे ?
कई बार ऐसा भी होता है कि S. P. भी शिकायत दर्ज करने से इंकार कर दे तो ऐसे में पीड़ित कर्मचारी के पास केवल एक ही रास्ता बचता है कि वह न्यायालय का सहारा ले कर न्याय प्राप्त करे। श्रम सम्बंधित विवाद के लिए श्रमिक को श्रम न्यायालय में किसी अधिवक्ता (lawyer) की मदद से मुकदमा दर्ज करना होता है।

श्रम न्यायालय में शिकायत ?
  1. पीड़ित कर्मचारी श्रम न्यायालय में उसके साथ हुए शोषण के खिलाफ लिखित में शिकायत दे सकता है। शिकायत करते समय आपको नौकरी से सम्बंधित उन सभी दस्तावेजों को शिकायत पत्र के साथ लगाना होगा जो कि इस बात का साक्ष्य होगा कि आप वहाँ पर कार्य करते है। 
  2. श्रम न्यायालय आपके द्वारा की गयी शिकायत के आधार पर शिकायत दर्ज कर शिकायत की एक प्रति आपको दी जाएगी और आपकी कंपनी को एक नोटिस भेजेगी ताकि आपकी शिकायत से सम्बंधित सवाल जवाब करेगी। 
  3. समय पड़ने पर आपको और आपकी कंपनी के उच्च अधिकारी दोनों को श्रम न्यायालय में हाजिर होना होगा। 
  4. श्रम न्यायालय में हाजिर होने पर आपकी हर एक शिकायत जो की कंपनी से है उसका निवारण किया जायेगा। 
  5. दोनों पक्षों को सुनने के बाद श्रम न्यायालय अपना अंतिम निर्णय देगा। 
श्रम न्यायालय क्या है और श्रम न्यायालय में केस कैसे करे ? What is labour court and How to file a case in Labour court श्रम न्यायालय क्या है और श्रम न्यायालय में केस कैसे करे ? What is labour court and How to file a case in Labour court Reviewed by Advocate Pushpesh Bajpayee on December 19, 2018 Rating: 5

3 comments:

  1. सर अगर लेबर कोर्ट दोनों पक्षों के मध्य समझौता करवाता है और कम्पनी बाद मे उस समझौते की अवहेलना करे तो क्या कर सकते है। मार्ग दर्शन करे। सर

    ReplyDelete
    Replies
    1. श्रम न्यायालय में जिस अधिवक्ता को आपने किया था आप उसको ये पूरी बात बता दे वो आपकी इस बात को श्रम न्यायालय में प्रस्तुत करेगा ।

      Delete
  2. Sir my ne indore cipla ltd indore . Me spectrum talent manejment me 6jan se kam kr rha tha or my ne 1 Oct ko oha rijain dediya tha or my ne 25oct tak puri duti ki uske babjud kampani ne meri silry hold kar dihai
    Mera shri man ji se nibedan hai ki meri mat kare

    ReplyDelete

lawyer guruji ब्लॉग में आने के लिए और यहाँ पर दिए गए लेख को पढ़ने के लिए आपको बहुत बहुत धन्यवाद, यदि आपके मन किसी भी प्रकार उचित सवाल है जिसका आप जवाब जानना चाह रहे है, तो यह आप कमेंट बॉक्स में लिख कर पूछ सकते है।

नोट:- लिंक, यूआरएल और आदि साझा करने के लिए ही टिप्पणी न करें।

Powered by Blogger.