गाड़ी का एक्सीडेंट हो गया है इंश्योरेंस क्लेम कैसे करे और इंश्योरेंस क्लेम से सम्बंधित सवाल जवाब ? Insurance claim

www.lawyerguruji.com

नमस्कार दोस्तों,
आज के इस लेख में आप सभी को " Insurance Claim" से सम्बंधित आपके मन में उठने वाले हर एक सवालों का जवाब देने की पूरी कोशिश करूँगा।
 सवालो के जवाब जानने से पहले insurance claim के कुछ महत्वपूर्ण  बिन्दुओ पर एक बार नजर दाल लेते है जिससे आप सभी को insurance claim के बारे में समझने में आसानी होगी। 


Insurance Claim होता क्या है ?
Insurance  claim के बारे में हम आपको बहुत ही सरलता से समझाने जा रहे। हम आप सभी जब भी कोई नया वाहन लेते है या second hand वाहन लेते है , तो उस वाहन का insurance अपने नाम पर करवाते है। इंश्योरेंस  करवाते समय हम आप सभी इंश्योरेंस की एक निश्चित राशि देते है इंश्योरेंस  पेपर पर इंश्योरेंस करवाने की तिथि और आपके वाहन का इंश्योरेंस कब समाप्त हो रहा है दोनों तिथि लिखी होती है।

मुख्य बात यह है कि इंश्योरेंस हम आप करवाते है की यदि किसी भी प्रकार की कोई दुर्घटना होती है तो उस दुर्घटना में हुई क्षति की भरपाई हो सके।

Insurance claim कैसे करे , और insurance claim से सम्बंधित सवाल जवाब।

इंश्योरेंस क्लेम से सम्बंधित आपके सवाल मेरे जवाब। 

1. गाड़ी का एक्सीडेंट हो गया है क्लेम कैसे करे ?
  1. जब भी आपकी की गाड़ी का एक्सीडेंट दूसरी गाड़ी की टक्कर से हो तो, आपको सबसे पहले एक्सीडेंट होने वाले स्थान से नजदीकी पुलिस थाने में प्रथम सूचना रिपोर्ट लिखवानी होगी। यदि एक्सीडेंट में आप ऐसी हालत में नहीं है कि नजदीकी पुलिस स्टेशन में जा सके तो एक्सीडेंट की सूचना फ़ोन कर पुलिस को दे और प्राथमिक उपचार के लिए एम्बुलेंस को भी कॉल करे। 
  2. प्रथम सूचना रिपोर्ट लिखवाने के बाद तुरंत अपने इंश्योरेंस कंपनी को सूचित कर एक्सीडेंट की सम्पूर्ण जानकारी दे। 
  3. इंश्योरेंस कंपनी द्वारा भेजा गया एक सर्वेयर उस दुर्घटना में ग्रस्त गाड़ी का एक्सीडेंटल डैमेज रिपोर्ट बनाता है। 
  4. यह एक्सीडेंटल डैमेज रिपोर्ट इंश्योरेंस कंपनी के मैनेजर के पास जाती है और वह इंश्योरेंस के नियम और शर्तो के आधार पर क्लेम पास करता है। 
2. वाहन इंश्योरेंस के नियम व् शर्ते क्या होती है ?
कुछ मुख्य नियम व् शर्तो के बारे में जानते है। 
  1. वाहन का बीमित होना अति आवश्यक होना चाहिए। 
  2. वाहन चलाने वाले के पास एक वैध ड्राइविंग लाइसेंस होना चाहिए। 
  3. वाहन चलाने वाले की उम्र किसी भी हालत में 18 वर्ष से कम नहीं होनी चाहिए। 
  4. बीमित वाहन का रजिस्ट्रेशन, फिटनेस, और परमिट होना चाहिए। 
  5. वाहन चालन वाहन परमिट में दी गयी सिमा में ही होना चाहिए। 
3. वाहन इंश्योरेंस क्लेम कब नहीं कर सकते ?

  1. वैध ड्राइविंग लाइसेंस के बिना वाहन को चलाना। 
  2. वाहन चालक की उम्र 18 वर्ष से कम है। 
  3. वाहन का पंजीकरण, फिटनेस और परमिट नहीं है। 
  4. वाहन का चालन वाहन परमिट में दी गयी सिमा का उल्लंघन होना। 
  5. वाहन चालक का नशे में होना। 
  6. वाहन का एक्सीडेंट वाहन चालक की गलती से हुआ हो। 
  7. और भी अन्य ऐसी दशा जो इंश्योरेंस की नियम व् शर्तो का उल्लंघन कर रही हो। 
4. वाहन की बीमा पॉलिसी खो गयी है तो क्लेम कर सकते है ?
हाँ, आप अपनी इंश्योरेंस कंपनी को वाहन बीमा पॉलिसी के खो जाने की एक लिखित सूचना देकर एक नई डुप्लीकेट इंश्योरेंस पॉलिसी मामूली सा शुल्क देकर ले सकते है। यहाँ ध्यान देने वाली एक बात यह है की इंश्योरेंस वैध होना चाहिए। 
इंश्योरेंस क्लेम से सम्बंधित किसी भी सवाल के जवाब के लिए कमेंट कर पूछ सकते है। 
गाड़ी का एक्सीडेंट हो गया है इंश्योरेंस क्लेम कैसे करे और इंश्योरेंस क्लेम से सम्बंधित सवाल जवाब ? Insurance claim गाड़ी का एक्सीडेंट हो गया है इंश्योरेंस क्लेम कैसे करे और इंश्योरेंस क्लेम से सम्बंधित सवाल जवाब ? Insurance claim Reviewed by Advocate Pushpesh Bajpayee on November 10, 2018 Rating: 5

2 comments:

Kaushal. Prasad said...

agar car accident karke distance ghadichok Waka bhag hate to FRI KASEY KARENGE
To Kiya is esthiti me hamhe claim nahi milega
YA car kisi PED ya diwar me takra jayegi to claim
Nahi milega

Advocate Pushpesh Bajpayee said...

अपने क्षेत्र के थाने में जा कर fir दर्ज करा दे।
मोटर वाहन बीमा दो प्रकार के होते है ।
एक third party।
दूसरा comprehensive ।
यदि आपकी कार का Third party बीमा है, तो आपके द्वारा कार में हुए नुक़सान का कोई क्लैम नहि मिलेगा।
यदि comprehensive बीमा पॉलिसी है तो मिलेगा।

lawyer guruji ब्लॉग में आने के लिए और यहाँ पर दिए गए लेख को पढ़ने के लिए आपको बहुत बहुत धन्यवाद, यदि आपके मन किसी भी प्रकार उचित सवाल है जिसका आप जवाब जानना चाह रहे है, तो यह आप कमेंट बॉक्स में लिख कर पूछ सकते है।

नोट:- लिंक, यूआरएल और आदि साझा करने के लिए ही टिप्पणी न करें।

Powered by Blogger.