आचार संहिता क्या है ? और आचार संहिता के समय लागु होने वाले नियम और इनके उल्लंघन करने पर सजा क्या है ? what is aachar sanhita and what's rule are apply at the time of aachar sanhita and punishment for violation of rules.

www.lawyerguruji.com

नमस्कार दोस्तों,
आज के इस लेख में आप सभी को चुनाव आयोग के द्वारा लागु किये जाने वाले आचार संहिता के बारे में हर एक छोटी सी छोटी जानकारी देने जा रहा हु। क्या है आचार संहिता और आचार संहिता के समय लागु होने वाले नियम क्या है ? और भी कई सवालो के जवाब दूंगा जिन सवालो के जवाब आपको पता होना चाहिए ताकि अगर आपसे कोई आचार संहिता के बारे में कुछ भी पूछे तो आप उस व्यक्ति के हर सवालो के जवाब संदेह रहित तुरंत दे सके और वहाँ मौजूद व्यक्तियों के मध्य आपकी सराहना हो।  

क्या है आचार संहिता और आचार संहिता के समय लागु होने वाले नियम और इनके उल्लंघन करने पर सजा क्या  है ? what is aachar sanhita and what's rule are apply at the time of aachar sanhita.

आचार संहिता क्या है ?
आचार संहिता जो कि चुनाव आयोग के आचार संहिता चुनाव समिति द्वारा बनाये गए वे दिशा -निर्देश है जिनका पालन करना चुनाव के शुरू होने से लेकर समाप्त होने तक देश की सभी राजनितिक पार्टियों और उनके उम्मीदवारों को करना अति आवश्यक होता है। आचार संहिता के लागु होने का मुख्य उद्देश्य यह है कि सभी राजनितिक पार्टियों के मध्य किसी भी प्रकार का मतभेद न हो और चुनाव का कार्य शांतिपूर्ण एवं निष्पक्ष रूप कराना होता है और साथ ही साथ चुनाव आयोग समिति की आचार संहिता इस बात की भी जाँच करती है कि किसी भी राजनितिक पार्टियां वह चाहे केंद्रीय की हो या राज्य की हो उनके द्वारा अपने आधिकारिक पदों का किसी भी प्रकार से चुनाव सम्बंधित चुनावों में अपने लाभ के लिए अपने आधिकारिक शक्तियों का दुरुपयोग न कर सके। चुनाव बूथ के पास एक ऐसा व्यक्ति नियुक्त किया जायेगा जिसके पास चुनाव से सम्बंधित किसी भी प्रकार की शिकायत या दिक्कतों की जानकारी उस व्यक्ति को दी जाएगी। 

आचार संहिता के समय लगने वाले प्रतिबंध जो की सभी राजनितिक दलों और उम्मीदवारों पर लागु होते है ?
जब भी देश में चुनाव का समय आता नजदीक आता है और चुनाव होने के दिन की घोषणा हो जाती है, तो सभी राजनितिक दलों के उम्मीदवार अपनी अपनी पार्टी को चुनाव में जिताने के लिए कई प्रकार से प्रयाश करते है ताकि लोगो के अधिक वोट से उनकी पार्टी भारी बहुमत से विजय होकर अपनी सरकार बना कर राज्य करे जिसके लिए इन उम्मीदवारों के द्वारा कई रोड शो एवं प्रदर्शन भी किये जाये है, पर आचार संहिता के लागु होने से इन रोड शो और प्रदर्शन पर अंकुश लग जाता है जैसे कि :-
  1. कोई भी राजनितिक दल ऐसी कोई भी घोषणा नहीं करेगा जिसके कारण से किसी धर्म या जातीय भावनाएं प्रभावित होती हो,
  2. कोई भी राजनितिक दल चुनाव में मत पाने के लिए किसी भी मतदाता को किसी भी प्रकार का कोई प्रलोभन नहीं देगा, यह प्रलोभन से मतलब  शराब, पैसा, उपहार, आदि से है। 
  3. सभी राजनितिक दलों को इस बात का खास ध्यान देना होगा की उनके द्वारा आयोजित रोड शो एवं रैलीयों के कारण से सार्वजानिक रोड, यातायात किसी भी प्रकार से प्रभावित नहीं हो,
  4. राजनितिक दलों द्वारा प्रदर्शन सड़क के दायी तरफ से ही निकाला जायेगा,
  5. सभी राजनितिक दल के उम्मीदवार रोड शो या रैली के शुरू और उसके समापन,स्थान, सड़क  /मार्ग, सब कुछ निश्चित कर स्थानीय पुलिस को सूचना देकर सूचित करेंगे, 
  6. राजनितिक दलों और उनके उम्मीदवारों को चुनाव के प्रचार के लिए लाउड स्पीकर के उपयोग के लिए अपने स्थानीय अधिकारियो से पहले अनुमति लेना आवशयक है,
  7. राजनितिक दलों का यदि एक ही दिन और एक ही मार्ग से रैली या प्रदर्शन होना है,तो समय को लेकर पहले चर्चा करे, 
  8. राजनितिक दलों के उम्मीदवारों के द्वारा सार्वजानिक स्थलों जैसे सरकारी छात्रावास, बैठक के मैदान और हेलीपैड इन सभी पर एकाधिकार न जता कर बराबरी में उपयोग किया जायेगा ,
  9. सत्ता दल के मंत्री खास तौर से किसी भी अधिकारी की नियुक्ति नहीं सकते जो उनके दल को वोट देने की तरफ प्रभावित करे,
  10. राजनितिक दलों द्वारा किसी भी प्रकार के अभियान को चालू करने से पहले अपने स्थानीय पुलिस को अवश्य सूचना देकर सूचित करे ताकि सुरक्षा के मद्देनजर आवश्यक सुरक्षा के इंतजाम किये जा सके,
  11. सभी राजनितिक दल और उनके उम्मीदवार विपक्ष दल और उनके उम्मीदवारों के निजी जीवन की इज्जत और सम्मान करे,
  12. राजनितिक दल और उनके उम्मीदवार विपक्ष के राजनितिक दल और उम्मीदवारों के गृह के सामने किसी भी प्रकार का रोड शो या रैली कर उनको परेशानी न पहुँचाए,
  13. राजनितिक दल के उम्मीदवार विपक्ष दल के जुलूस व् सभा में किसी भी प्रकार से बाधा न पहुँचाए,
  14. राजनितिक दलों द्वारा प्रदर्शन के समय अनुचित वस्तु का उपयोग नहीं किया जायेगा, 
  15. राजनितिक दलों का कोई भी उम्मीदवार अपने राजनितिक दलों से सम्बंधित किसी भी प्रकार का कोई भी चिन्ह या इशारा पोलिंग बुथ के आस पास भी नहीं दिखायेगा,
  16.  राजनितिक दल के उम्मीदवार पोलिंग बूथ के भीतर तभी प्रवेश कर सकेंगे जब उनके पास चुनाव आयोग द्वारा जारी किया गया एक वैध पास होगा। 
  17. कोई भी राजनितिक दल ऐसा अनुचित कार्य नहीं करेगा जिसके कारण से जाति, धर्म और भाषाई समुदायों के मध्य मतभेद या घृणा का रूप ले,
  18. राजनितिक दलों द्वारा चुनाव प्रचार के लिए धार्मिक स्थलों का उपयोग नहीं किया जाना चाहिए,
  19. राजनितिक दल के उम्मीदवारों के द्वारा किसी भी व्यक्ति की अनुमति के बिना उसकी दिवार, भूमि और माकन का उपयोग चुनाव प्रचार के सम्बन्ध में न करे। 
  20. राजनितिक दल और उनके उम्मीदवार इस बात को पहले सुनिश्चित कर ले की जिस स्थान को उन्होंने चुनाव के प्रयोजन के लिए चुना है वहाँ निषेधाज्ञा तो लागु नहीं है। 
मतदान के दिन लागु होने वाले नियम कौन से है ?
  1. मतदान के दिन से 24 घंटे पहले और मतदान के दिन किसी को शराब, पैसा, उपहार आदि का प्रलोभन नहीं दिया जायेगा,
  2. मतदाताओं को दी जाने वाली पर्ची सादी  होनी चाहिए उसपर किसी भी प्रकार का चिन्ह, उम्मीदवार या दल का नाम न अंकित हो,
  3. मतदान के दिन वाहन चलाने पर उसका परमिट अवश्य प्राप्त करे,
  4. मतदान के समय अधिकृत कार्यकर्ताओ को बिल्ले या पहचान पत्र जरूर दे,
  5. मतदान का कैंप साधारण होना चाहिए और कैंप में भीड़ न लगाए,
आचार संहिता कब से कब तक लागु रहती है  ?
आचार संहिता के लागु होने की शुरुआत चुनाव की तिथि की घोषणा होने से चुनाव के नतीजों के आने तक यह लागु रहती है और चुनाव आयोग आचार संहिता समिति के द्वारा बनाये गए दिशा -निर्देश का पालन सभी राजनितिक पार्टियों को करना होता है। 

आचार संहिता के दिशा निर्देश के पालन न करने या इनके उल्लंघन करने पर क्या होगा ?
आचार संहिता के लागु होने का मुख्य उद्देश्य ही यह है कि आचार संहिता के दिशा निर्देशों का पालन सभी राजनितिक दलों और उनके प्रत्येक उम्मीदवारों को करना होता है ताकि देश, राज्य में हो रहे चुनाव शांतिपूर्ण एवं निष्पक्ष रूप से हो सके और राजनितिक दल अपने अधिकारों का दुरुपयोग चुनाव के लाभों के लिए न कर सके। यदि कोई भी राजनितिक दाल का कोई भी उम्मीदवार आचार संहिता के दिशा निर्देशों का उल्लंघन करता है या करते हुए पाया जाता है , तो ऐसे में उसके ख़िलाफ़ कड़ी से कड़ी कानूनी कार्यवाही की जा सकती है और साथ ही साथ उस उम्मीदवार को चुनाव में खड़े होने से रोका जा सकता है, उल्लंघन करने पर उम्मीदवार के खिलाफ प्रथम सूचना रिपोर्ट भी दर्ज की जा सकती है और उम्मीदवार के दोषी पाए जाने की स्थिति में उस उम्मीदवार को कारावास की सजा से भी दण्डित किया जा सकता है। 
आचार संहिता क्या है ? और आचार संहिता के समय लागु होने वाले नियम और इनके उल्लंघन करने पर सजा क्या है ? what is aachar sanhita and what's rule are apply at the time of aachar sanhita and punishment for violation of rules. आचार संहिता क्या है ? और आचार संहिता के समय लागु होने वाले नियम और इनके उल्लंघन करने पर सजा क्या  है ? what is aachar sanhita and what's rule are apply at the time of aachar sanhita and punishment for violation of rules. Reviewed by Pushpesh Bajpayee on March 25, 2019 Rating: 5

No comments:

lawyer guruji ब्लॉग में आने के लिए और यहाँ पर दिए गए लेख को पढ़ने के लिए आपको बहुत बहुत धन्यवाद, यदि आपके मन किसी भी प्रकार उचित सवाल है जिसका आप जवाब जानना चाह रहे है, तो यह आप कमेंट बॉक्स में लिख कर पूछ सकते है।
या
आप हमें फ़ोन करके भी पूछ सकते है ।
फ़ोन नम्बर - 9026751234

नोट:- सवाल पूछते वक़्त अपना नाम जरूर लिखे।

Powered by Blogger.